×

Warning

JUser: :_load: Unable to load user with ID: 558

विदेश

लाहौर: पाकिस्तान के पंजाब प्रांत की असेंबली के बाहर आज एक विरोध रैली के दौरान एक आत्मघाती हमलावर ने खुद को उड़ा लिया जिससे दो वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों सहित कम से कम 16 लोगों की मौत हो गई और करीब 60 अन्य घायल हो गए। लाहौर यातायात पुलिस प्रमुख कैप्टन (सेवानिवृत्त) मोबीन अहमद और लाहौर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जाहिद गोंडाल इस विस्फोट में मारे गए।

यह धमाका पुलिसकर्मियों को निशाना बनाकर किया गया। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि कम से कम 16 लोग मारे गए और 60 अन्य घायल हो गए। यह धमाका दवा विक्रेताओं की विरोध रैली में हुआ।

लाहौर के पुलिस प्रमुख अमीन वैंस ने कहा, ‘उप महानिरीक्षक और वरिष्ठ पुलिस अधिकारी मोबीन अहमद इस विस्फोट में मारे गए हैं।’ बहरहाल, उन्होंने हताहत हुए दूसरे के लोगों के बारे पुष्टि नहीं की है।

उन्होंने कहा, ‘फिलहाल मैं श्री अहमद की मौत की पुष्टि कर सकता हूं।’ डीआईजी अहमद पर बलूचिस्तान में तैनाती के दौरान हमला हुआ था जिसमें वह बाल बाल बच गए थे।

इस्लामाबाद: पाकिस्तान की एक अदालत ने 'वेलेनटाइन डे' और सोशल मीडिया पर इसके प्रचार-प्रसार पर रोक लगा दी है। इस्लामाबाद उच्च न्यायालय ने उस याचिका पर आदेश जारी किया जिसमें दलील दी गई है कि 'वेलेनटाइन डे' गैरइस्लामी है।

 

यह याचिका अब्दुल वहीद नामक एक व्यक्ति ने दायर की है जिसके राजनीतिक रूझान के बारे में पता नहीं चल पाया है। याचिकाकर्ता ने दलील दी कि 'वेलेनटाइन डे' मुस्लिम परंपरा का हिस्सा नहीं है और मुख्यधारा एवं सोशल मीडिया में इसके प्रचार-प्रसार पर पाबंदी लगनी चाहिए।

अदालत ने याचिका स्वीकार कर ली और प्रशासन को आदेश दिया कि देश में 'वेलेनटाइन डे' मनाने पर रोक लगाई जाए।उसने कहा कि इस आदेश पर तत्काल अमल होना चाहिए।

अदालत ने सूचना मंत्रालय, पाकिस्तान इलेक्ट्रानिक मीडिया नियामक प्राधिकरण (पेमरा) और इस्लामाबाद के मुख्य आयुक्त से कहा है कि वे इस आदेश पर पूरी तरह अमल सुनिश्चित करें। पाकिस्तान में 'वेलेनटाइन डे' को लेकर हर साल विवाद खड़ा होता है, लेकिन यह पहली बार है कि किसी उच्च न्यायालय ने इसे मनाने पर रोक लगाई है।

पिछले साल राष्ट्रपति ममनून हुसैन ने दलील दी थी कि पाकिस्तान में 'वेलेनटाइन डे' नहीं मनाना चाहिए। उनका कहना था कि 'वेलेनटाइन डे' का देश की संस्कृति से कोई संबंध नहीं है और इसको नजरअंदाज करना चाहिए।

 

लॉस एंजिलिस : बेयोंसे ने जबरदस्त प्रस्तुति देकर धूम मचाई लेकिन यह रात ब्रिटेन की गायिका एडेले के नाम रही। सबसे महत्वपूर्ण पुरस्कार मसलन एल्बम ऑफ दी ईयर, रिकॉर्ड ऑफ दी ईयर और सॉन्ग ऑफ दी ईयर एडेले को मिले।

एडेले को जिन पांच श्रेणियों में नामित किया गया था उन्हें उन सभी में जीत हासिल हुई, इसमें बेस्ट पॉप सोलो परफॉर्मेंस और बेस्ट वोकल एल्बम शामिल हैं। बेयोंसे के एल्बम ‘लेमोनेड’ का नामांकन नौ श्रेणियों में किया गया था लेकिन उन्हें केवल दो श्रेणियों- बेस्ट अर्बन कंटेंपररी एल्बम और बेस्ट म्यूजिक वीडियो से ही संतोष करना पड़ा।

28 वर्षीय एडेले को लगातार दूसरे साल समारोह में तकनीकी परेशानियों का सामना करना पड़ा। उन्होंने अपने भाषण में क्वीन बे (बेयोंसे को उनके प्रशंसक इसी नाम से बुलाते हैं) का भी जिक्र किया। एडेले ने बेयोंसे से कहा, ‘हम सभी कलाकार आपके प्रशंसक हैं। आप हमारे लिए रौशनी हैं। मेरी क्वीन मेरी आदर्श, क्वीन बी। मैं आपका सम्मान करती हूं।’

एल्बम ऑफ दि ईयर का पुरस्कार स्वीकार करते हुए ऐडेले ने कहा, ‘आपने जिस तरह मेरे दोस्तों को महसूस करवाया, मेरे अश्वेत दोस्तों को जो महसूस करवाया वह हौसला बढ़ाने वाला है।’ 59वें एन्युअल ग्रैमी में गर्भवती बेयोंसे भले ही ऐडेले से पिछड़ गई हों लेकिन ‘लव ड्रॉट’ और ‘सेंडकेटल्स’ पर उनकी प्रस्तुति ने समारोह में जान डाल दी।

विश्व संगीत श्रेणी में ग्रैमी जीतने वाले यो यो मा के एल्बम ‘सिंग मी होम’ का हिस्सा रहे भारत के तबलावादक संदीप दास ने पुरस्कार जीतने के बाद पीटीआई-भाषा को फोन पर कहा, ‘तीसरी बार हमारी किस्मत ने साथ दिया। मैं जो हूं, जहां से आता हूं (सांस्कृतिक या संगीत पृष्ठभूमि) उस पर मुझे गर्व है। मैं आशा करता हूं कि मेरे अपने देश में संगीत को और तवज्जो मिले, संगीत हमारे खून में है।’

Page 6 of 6
Top
We use cookies to improve our website. By continuing to use this website, you are giving consent to cookies being used. More details…