खेल

नई दिल्ली॥ श्रीलंका के तेज गेंदबाज मलिंगा ने गुरुवार को बांग्लादेश के खिलाफ दूसरे टी20 अंतर्राष्ट्रीय मैच में हैट्रिक ली। यह उनके टी20 अंतर्राष्ट्रीय करियर की पहली हैट्रिक है जबकि अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में उनकी चौथी हैट्रिक रही।

 पहला टी20 अंतर्राष्ट्रीय हारने के बाद बांग्लादेश ने दूसरे मुकाबले में शानदार बल्लेबाजी करते हुए 20 ओवर में 9 विकेट खोकर 176 रन बनाए। इमरुल कायेस, सौम्य सरकार और शाकिब अल हसन ने क्रमशः 36, 34 और 38 रन की उपयोगी पारियां खेली।

 3 ओवर में 31 रन खर्च करने वाले मलिंगा ने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन आखिरी के लिए बना रखा था। पारी के 19वें ओवर में श्रीलंकाई गेंदबाज ने पहली दो गेंदों पर तीन रन खर्च किये और फिर अगली तीन गेंदों पर अपनी टी20 अंतर्राष्ट्रीय करियर की पहली हैट्रिक पूरी करके बांग्लादेश को बैकफुट पर धकेल दिया।

मलिंगा ने 19 ओवर की तीसरी गेंद पर मुश्फिकुर रहीम को क्लीन बोल्ड कर दिया। अगली गेंद पर मलिंगा ने मशरफे मोर्तज़ा को क्लीन बोल्ड कर दिया। उल्लेखनीय है कि अपना आखिरी टी20 अंतर्राष्ट्रीय मैच खेल रहे मोर्तज़ा आखिरी मैच में बिना खाता खोले आउट हो गए। इसके बाद ओवर की पांचवीं गेंद पर मलिंगा ने मेहेदी हसन को धीमी गति की गेंद पर LBW आउट करके अपनी हैट्रिक पूरी की।

नई दिल्ली॥ भारतीय कप्तान विराट कोहली बीसीसीआई के नए अनुबंध से नाखुश हैं। हाल ही में बीसीसीआई ने खिलाड़ियों को ग्रेड के अनुसार मिलने वाली राशि में दोगुना इजाफा किया है। इसके बाद भी दिग्गज भारतीय खिलाड़ियों का कहना है कि भारतीय क्रिकेटरों को सालाना अनुबंध से मिलने वाली रकम विश्व क्रिकेटरों को मिलने वाले पैसे की तुलना में काफी कम है। भारतीय कप्तान ने ए ग्रेड क्रिकेटरों के लिए पैसे बढ़ाकर 5 करोड़ रुपए करने की भी मांग की है।

दूसरे देशों के खिलाड़ियों को मिलने वाले पैसे की तुलना में बीसीसीआई की तरफ से दी जाने वाली रकम को अपर्याप्त बताते हुए कोहली कई बार खिलाड़ियों की सैलरी बढ़ाने की मांग कर चुके हैं।

एक वेबसाइट से बीसीसीआई से जुड़े एक सूत्र ने कहा, 'कोहली और कुंबले ने दूसरे देशों के क्रिकेट खिलाड़ियों को मिलने वाले पैसों की तुलना करते हुए अपना पक्ष रखा है।

सूत्र का कहना है कि भारतीय कप्तान ने यह कदम बेहद कुशलता से उठाया है। योजनाबद्ध तरीके से कोहली ने अपनी मांग रखी है। इसके लिए उन्होंने अपनी तरफ से कुछ दूसरे कैंपेनर्स को भी जोड़ा है। अपनी मांग रखते हुए भारतीय कप्तान ने न तो किसी को नाराज ही किया है और न किसी को खुश करने के लिए अतिरिक्त प्रयास किए हैं। भारतीय कप्तान की योजना खेल के अलग-अलग फॉर्मेट से जुड़े खिलाड़ियों को अपने साथ जोड़ने की भी है।'

रिपोर्ट के अनुसार, 'भारतीय टीम के कोच अनिल कुंबले ने भी कोहली का समर्थन किया है। उन्होंने अपने समर्थन में तर्क दिया है कि इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया और साउथ अफ्रीका के खिलाड़ी सालाना 10 से 12 करोड़ (मैच फी और रिटेनर फी जोड़कर) की कमाई करते हैं। वहीं भारतीय टीम के ए ग्रेड के खिलाड़ी भी महज 4 से 5 करोड़ तक ही कमा पाते हैं। भारतीय कप्तान क्रिकेटरों की सैलरी से संतुष्ट नहीं हैं इसकी एक वजह यह भी है कि बीसीसीआई विश्व का सबसे धनी क्रिकेट बोर्ड है। आईसीसी को मिलने वाले रेवेन्यू से बड़ा हिस्सा भारतीय बोर्ड को मिलता है।'

 

नई दिल्ली॥ एएफसी एशियन कप क्वालिफायर फुटबॉल मैच में भारत ने कप्तान सुनील छेत्री के आखिरी मिनट के गोल की बदौलत म्यांमार को 1-0 से हरा दिया। इस जीत के साथ भारत ने म्यांमार को उसी के घर में हराने का 64 वर्ष पुराना रिकॉर्ड भी तोड़ दिया। भारत का अगला मैच अब 13 जून को किर्गिस्तान के खिलाफ होगा।भारतीय टीम इस समय पिछले 11 मैचों में 9 जीत के साथ शानदार फॉर्म में चल रही है। मेजबान टीम की युवा टीम और भारत के विदेश में ख़राब रिकॉर्ड के कारण म्यामांर को कमजोर मानने की भूल कौन कर सकता था।

पहले हाफ में दोनों टीमों के डिफेंडरों ने सफलतापूर्वक एक-दूसरे के खेल को रोकने में बाजी मारी तथा गोल की किसी भी सम्भावना को समाप्त कर दिया। दूसरे हाफ के खेल में घरेलू दर्शकों को टीम से काफी उम्मीदें थी लेकिन भारतीय खिलाड़ियों ने उन उम्मीदों पर पानी फेरते हुए मेजबान टीम को अंतिम मिनट तक गेंद को गोल में नहीं पहुंचाने दिया। भारत से फीफा रैंकिंग में 40 स्थान पीछे म्यांमार ने शानदार खेल दिखाया।

अंतिम मिनट में दोनों टीमों का स्कोर 0-0 था और ऐसा लग रहा था कि यह एक ड्रॉ के रूप में समाप्त होगा लेकिन सुनील छेत्री को यह मंजूर नहीं था। उन्होंने जेजे और उदांता के पास पर शानदार गोल दागते हुए भारत को 1-0 से आगे कर दिया। हालांकि एक मिनट का अतिरिक्त समय जरुर मिला लेकिन उसमें भी यह स्कोर बरक़रार रहा। सुनील छेत्री ने करियर का 53वां अन्तर्राष्ट्रीय गोल दागा, वहीँ भारत ने पिछले 6 मैचों में लगातार जीत दर्ज करने का कीर्तिमान भी बनाया।इसके साथ ही इण्डिया को तीन अंक प्राप्त हुए। 64 वर्षों में पहली बार इंडिया ने म्यांमार में इस प्रकार की जीत दर्ज की है।

नई दिल्ली(25 मार्च): टीम इंडिया को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सीरीज के लिहाज से अहम धर्मशाला टेस्ट मैच में उस समय झटका लगा, जब कप्तान विराट कोहली कंधे की चोट के चलते टीम से बाहर हो गए।

माना जा रहा था कि उनकी जगह टीम में किसी बल्लेबाज को शामिल किया जाएगा, लेकिन टीम प्रबंधन ने एक और स्पिनर को शामिल करना उचित समझा।

यह स्पिनर भी विलक्षण है, क्योंकि इसकी गेंदबाजी का अंदाज जुदा है। इस तरह के स्पिन गेंदबाजों को 'चाइनामैन बॉलर'

कहा जाता है। विराट की जगह प्लेइंग इलेवन में शामिल इस गेंदबाज का नाम है कुलदीप यादव।

 

कानपुर के कुलदीप यादव आईपीएल के दौरान चर्चा में आए थे, जब उन्होंने मुंबई इंडियंस के एक प्रैक्टिस मैच में सचिन तेंदुलकर को चकमा दे दिया था।

सचिन जब आए, तो उनके सामने एक अंजान-सा युवा गेंदबाज था। उसने गेंद फेंकी। गेंद ऑफ स्टंप के बाहर पिच हुई और तेजी से अंदर की ओर आई, फिर क्या था- सचिन का मिडिल स्टंप उड़ गया। इससे तेंदुलकर भौचक रह गए।

 बाद में 18 साल के कुलदीप यादव ने कहा कि सचिन पाजी को मालूम ही नहीं था कि वे चाइनामैन गेंदबाज हैं। उनके अनुसार यह बात केवल कोच शॉन पोलक को पता थी।

फिर क्या था कुलदीप छा गए। इसके बाद कुलदीप यादव नेशनल क्रिकेट एकेडमी में टीम इंडिया की नई 'दीवार' चेतेश्वर पुजारा को भी अपनी गेंद से चकमा देकर सबका ध्यान खींचा था।

 

 

Page 3 of 6
Top
We use cookies to improve our website. By continuing to use this website, you are giving consent to cookies being used. More details…